Villagers Of Kerala Made Umbrella To Fight Against Corona Virus – केरल के ग्रामीणों ने छाता को बनाया कोरोना से लड़ने का हथियार

0
29


अमर उजाला नेटवर्क, कोच्चि
Updated Thu, 28 May 2020 06:39 AM IST

एक महीने में प्रशासन ने रियायती दर पर 6,000 छाते बांटे हैं।
– फोटो : ANI

ख़बर सुनें

केरल के एक गांव में लोगों ने खतरनाक कोरोना संक्रमण से लड़ने के लिए छाता को अपना हथियार बनाया है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि मौसम कैसा है, लेकिन केरल के तटवर्ती जिले अलपुझा के गांव तनीरमुकम के लोगों ने छतरी को इस गर्मी के मौसम में कोरोना के खिलाफ सामाजिक दूरी का एक कारगर हथियार बना लिया है।

ग्रामीणों को लगता है कि इस तीन महीने के बरसाती मौसम में लॉकडाउन के प्रोटोकॉल के पालन में इस कवायद का काफी फायदा होगा। तनीरमुकम पंचायत की अध्यक्ष पीएस ज्योति ने कहा कि हमारा आदर्श वाक्य है ‘छतरी खोलें, चाहे बारिश, धूप या महामारी आए। 

एक महीने में प्रशासन ने रियायती दर पर 6,000 छाते बांटे हैं। वहीं यह आइडिया देने वाले अलपुझा के विधायक और राज्य के वित्तमंत्री डॉ. टीएम थॉमस इसाक ने कहा कि छतरी खुलने से इतनी तो गारंटी है कि दो लोगों के बीच एक मीटर की दूरी तो जरूर रहेगी।

केरल के एक गांव में लोगों ने खतरनाक कोरोना संक्रमण से लड़ने के लिए छाता को अपना हथियार बनाया है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि मौसम कैसा है, लेकिन केरल के तटवर्ती जिले अलपुझा के गांव तनीरमुकम के लोगों ने छतरी को इस गर्मी के मौसम में कोरोना के खिलाफ सामाजिक दूरी का एक कारगर हथियार बना लिया है।

ग्रामीणों को लगता है कि इस तीन महीने के बरसाती मौसम में लॉकडाउन के प्रोटोकॉल के पालन में इस कवायद का काफी फायदा होगा। तनीरमुकम पंचायत की अध्यक्ष पीएस ज्योति ने कहा कि हमारा आदर्श वाक्य है ‘छतरी खोलें, चाहे बारिश, धूप या महामारी आए। 

एक महीने में प्रशासन ने रियायती दर पर 6,000 छाते बांटे हैं। वहीं यह आइडिया देने वाले अलपुझा के विधायक और राज्य के वित्तमंत्री डॉ. टीएम थॉमस इसाक ने कहा कि छतरी खुलने से इतनी तो गारंटी है कि दो लोगों के बीच एक मीटर की दूरी तो जरूर रहेगी।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here