Sonu Sood Transported 167 Stranded Migrants To Kerala In Odisha – सोनू सूद ने केरल में फंसे 167 प्रवासियों को चार्टर्ड विमान से पहुंचाया ओडिशा

0
22


डिजिटल ब्यूरो, अमर उजाला, मुंबई
Updated Sat, 30 May 2020 05:46 AM IST

ख़बर सुनें

प्रवासियों के लिए मसीहा बने बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद शुक्रवार को केरल में फंसे 167 लोगों के लिए वरदान बन गए। सोनू को किसी करीबी से इनके फंसे होने की सूचना मिली। इसके बाद उन्होंने एयर एशिया के चार्टर्ड विमान से इन लोगों को एयरलिफ्ट कर भुवनेश्वर के बीजू पटनायक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पहुंचाया। इन लोगों में 147 महिलाएं और 20 पुरुष शामिल हैं और सभी केरल में सिलाई कारीगर थे।

सोनू सूद ने सूचना मिलते ही केरल और ओडिशा सरकार से संपर्क साधा। उन्होंने कोच्चि और भुवनेश्वर हवाई अड्डों को खुलवाने की मंजूरी ली। इसके बाद एयर एशिया के विमान को बेंगलुरु से कोच्चि रवाना कराया, जहां से प्रवासियों को विमान से भुवनेश्वर पहुंचाया गया। ये सभी लोग केंद्रपारा के रहने वाले हैं। स्थानीय प्रशासन ने इन्हें बसों के जरिए केंद्रपारा पहुंचाने की व्यवस्था की। इन्हें पहले सात दिन संस्थागत क्वारंटीन रखा जाएगा इसके बाद इन लोगों को अगले सात दिन अपने घरों में क्वारंटीन रहना होगा। 

राज्य सभा सासंद अमर पटनायक ने सोनू सूद का विशेष धन्यवाद दिया। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, “ओडिशा की बेटियों के लिए आपकी मदद सराहनीय है। हम आपका धन्यवाद अदा करते हैं। सोनू और उनकी दोस्त नीति गोयल की ‘घर भेजो’ मुहिम का हर कोई मुरीद हो रहा है।”

उम्मीद की उड़ान के लिए एयर एशिया का धन्यवाद

सोनू सूद ने कहा, ‘इन लोगों के बारे में पता चलते ही मेरे मन में पहली बात यह थी कि कैसे इन्हें घर पहुंचाया जाए। इस काम में एयर एशिया इंडिया ने काफी सहयोग किया। इसके लिए शुक्रिया। उम्मीद की यह उड़ान इनमें से कई लोगों की पहली उड़ान होगी।’

सोनू की मदद करना गौरव की बात

सोनू के बयान पर एयरएशिया इंडिया के सेल्स एंड डिस्ट्रीब्यूशन हेड अनूप महेश्वरी ने कहा, ‘सोनू सूद जिस तरह मजदूरों के दर्द को अपना समझकर मदद कर रहे हैं। उनकी इस मुहिम का हिस्सा होना हमारे लिए गौरव की बात है। उनका जज्बा कमाल है। इन 167 लोगों के लिए सपनों की उड़ान मुहैया कराना सुखद अनुभव है।’

सोनू की बदौलत हम महीनों बाद अपने परिवार से मिले

एयरलिफ्ट किए गए 167 में से एक प्रवासी ने कहा, “सोनू सूद की बदौलत हम महीनों बाद अपने परिवार से मिलेंगे। वे हमारे लिए भगवान से कम नहीं हैं। उनका बहुत-बहुत शुक्रिया। हमारे लिए यह बेहद सुखद अनुभव था। हमारे दर्द को सोनू सूद ने समझा और इतनी शानदार व्यवस्था कर हमें हमारे परिवारों के पास पहुंचाया।”

प्रवासियों के लिए मसीहा बने बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद शुक्रवार को केरल में फंसे 167 लोगों के लिए वरदान बन गए। सोनू को किसी करीबी से इनके फंसे होने की सूचना मिली। इसके बाद उन्होंने एयर एशिया के चार्टर्ड विमान से इन लोगों को एयरलिफ्ट कर भुवनेश्वर के बीजू पटनायक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पहुंचाया। इन लोगों में 147 महिलाएं और 20 पुरुष शामिल हैं और सभी केरल में सिलाई कारीगर थे।

सोनू सूद ने सूचना मिलते ही केरल और ओडिशा सरकार से संपर्क साधा। उन्होंने कोच्चि और भुवनेश्वर हवाई अड्डों को खुलवाने की मंजूरी ली। इसके बाद एयर एशिया के विमान को बेंगलुरु से कोच्चि रवाना कराया, जहां से प्रवासियों को विमान से भुवनेश्वर पहुंचाया गया। ये सभी लोग केंद्रपारा के रहने वाले हैं। स्थानीय प्रशासन ने इन्हें बसों के जरिए केंद्रपारा पहुंचाने की व्यवस्था की। इन्हें पहले सात दिन संस्थागत क्वारंटीन रखा जाएगा इसके बाद इन लोगों को अगले सात दिन अपने घरों में क्वारंटीन रहना होगा। 

राज्य सभा सासंद अमर पटनायक ने सोनू सूद का विशेष धन्यवाद दिया। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, “ओडिशा की बेटियों के लिए आपकी मदद सराहनीय है। हम आपका धन्यवाद अदा करते हैं। सोनू और उनकी दोस्त नीति गोयल की ‘घर भेजो’ मुहिम का हर कोई मुरीद हो रहा है।”

उम्मीद की उड़ान के लिए एयर एशिया का धन्यवाद

सोनू सूद ने कहा, ‘इन लोगों के बारे में पता चलते ही मेरे मन में पहली बात यह थी कि कैसे इन्हें घर पहुंचाया जाए। इस काम में एयर एशिया इंडिया ने काफी सहयोग किया। इसके लिए शुक्रिया। उम्मीद की यह उड़ान इनमें से कई लोगों की पहली उड़ान होगी।’

सोनू की मदद करना गौरव की बात

सोनू के बयान पर एयरएशिया इंडिया के सेल्स एंड डिस्ट्रीब्यूशन हेड अनूप महेश्वरी ने कहा, ‘सोनू सूद जिस तरह मजदूरों के दर्द को अपना समझकर मदद कर रहे हैं। उनकी इस मुहिम का हिस्सा होना हमारे लिए गौरव की बात है। उनका जज्बा कमाल है। इन 167 लोगों के लिए सपनों की उड़ान मुहैया कराना सुखद अनुभव है।’

सोनू की बदौलत हम महीनों बाद अपने परिवार से मिले

एयरलिफ्ट किए गए 167 में से एक प्रवासी ने कहा, “सोनू सूद की बदौलत हम महीनों बाद अपने परिवार से मिलेंगे। वे हमारे लिए भगवान से कम नहीं हैं। उनका बहुत-बहुत शुक्रिया। हमारे लिए यह बेहद सुखद अनुभव था। हमारे दर्द को सोनू सूद ने समझा और इतनी शानदार व्यवस्था कर हमें हमारे परिवारों के पास पहुंचाया।”



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here