N95 Mask Protect Users But Not Those Around Says Experts – एन95 मास्क से उपभोक्ता की सुरक्षा, आस-पास के लोगों की नहीं

0
41


एन95 मास्क के इस्तेमाल को लेकर हमेशा दुविधा रही है कि किस व्यक्ति को एन95 मास्क पहनना चाहिए और किसे नहीं। एन95 के इस्तेमाल पर एक विशेषज्ञ ने नया खुलासा किया है। विशेषज्ञ का कहना है कि एन95 मास्क से सिर्फ उपभोक्ता की सुरक्षा होगी उसके आस-पास के लोगों की नहीं।

विशेषज्ञ की माने तो एन95 मास्क पहनने वाले इंसान के आस-पास के लोग जोखिम के ज्यादा संपर्क में रहेंगे। जानकारों का कहना है कि छिद्रों वाला एन95 प्रदूषण से बचने के लिए इस्तेमाल किया जाता है ताकि मुंह में कार्बन डाइऑक्साइड इकट्ठी ना हो जाए। 

विशेषज्ञों का कहना है कि ऐसे मास्क पहनकर जब सांस छोड़ी जाती है तो मुंह से कीटाणुओं के बाहर निकलने का खतरा रहता है जिससे आस-पास के लोग संक्रमित हो सकते हैं। पीएसआरआई के चेयरमैन जीसी खिलनानी का कहना है कि ऐसे एन95 मास्क का इस्तेमाल करें जिसमें छिद्र ना हो।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय रोजाना एडवाइजरी जारी करता है जिसमें आम लोगों से अपील की जाती है कि वे एन95 मास्क का इस्तेमाल ना करें। ये मास्क पीपीई किट का भाग है जिसे कोविड-19 से लड़ रहे फ्रंटलाइन कर्मचारी की ओर से इस्तेमाल किया जाता है।  

महाजन इमेजिंग के मालिक हर्ष महाजन का कहना है कि स्वास्थ्य कर्मचारियों को भी एन95 मास्क का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। उन्होंने कहा कि कोरोना जैसी महामारी के बीच एन95 मास्क जिसमें छिद्र हैं, उनपर प्रतिबंध लगा देना चाहिए। ऐसे मास्क तब इस्तेमाल किए जाते हैं जब प्रदूषण की मात्रा ज्यादा हो।

छिद्रों के होने से हवा के साथ साथ वैक्टीरिया या वायरस भी बाहर निकल सकते हैं जो दूसरे लोगों के लिए घातक साबित हो सकते हैं। खिलनानी का कहना है कि मास्क पहनना अनिवार्य है, मास्क ऐसे पहनें कि नांक, मुंह और थोडी उसमें शामिल हो जाए। 

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने हेल्थ केयर और सफाई कर्मियों को सर्जिकल मास्क पहनने की सलाह दी है क्योंकि ये लोग सीधे तौर पर कोरोना से नहीं लड़ रहे हैं। हर इस्तेमाल के बाद सर्जिकल मास्क को फेंकना ही सही सलाह है। 

जानकारों के मुताबिक मास्क का इस्तेमाल ही कोरोना से नहीं बचा सकता है, इसके साथ साथ आपको हाथ धोना, साफ-सफाई रखना, खांसने-छींकने का तरीका और दूसरों से छह फीट की दूरी बनाना भी जरूरी है। अगर बाहर निकल रहे हैं तो दस्ताने भी पहन सकते हैं।

मूलचंद अस्पताल के मेडिसिन विभाग के वरिष्ठ कंसेल्टेंट श्रीकांत शर्मा का कहना है कि एक बार दस्तानों का इस्तेमाल करने के बाद उन्हें अच्छी तरह से फेंकें।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here