India And China Agreed To Solve Border Disputes Via Talks – सीमा विवाद के मतभेदों को बातचीत के जरिए दूर करने पर सहमत हुए भारत और चीन

0
37


पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free में
कहीं भी, कभी भी।

70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद

ख़बर सुनें

भारत और चीन ने पूर्वी लद्दाख में अपने सैन्य गतिरोध को लेकर शुक्रवार को राजनयिक वार्ता की। साथ ही, दोनों देश राजनयिक वार्ता के जरिये मतभेदों को दूर करने पर सहमत हुए। दोनों देशों ने एक दूसरे की संवेदनशीलता, चिंता एवं आकांक्षाओं का सम्मान करने तथा इन्हें विवाद नहीं बनने देने पर भी सहमति जताई।

वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव (पूर्वी एशिया), नवीन श्रीवास्तव और चीनी विदेश मंत्रालय में महानिदेशक वू जियांगहाओ के बीच वार्ता हुई। सैन्य गतिरोध का प्रत्यक्ष रूप से जिक्र किए बगैर विदेश मंत्रालय ने कहा कि दोनों पक्षों ने मौजूदा घटनाक्रमों सहित द्विपक्षीय संबंधों की स्थिति की समीक्षा की।

विदेश मंत्रालय ने इस संबंध में जारी एक बयान में कहा, ‘इस संदर्भ में उन्होंने दोनों देशों के नेताओं के बीच बनी उस आम सहमति को याद किया कि भारत और चीन के बीच शांतिपूर्ण, स्थिर और संतुलित संबंध मौजूदा वैश्विक स्थिति में स्थिरता के लिए एक सकारात्मक चीज होगी।’

बयान में कहा गया है कि दोनों पक्ष दोनों देशों के नेतृत्वों द्वारा मुहैया किये गये दिशानिर्देशों के मुताबिक मतभेदों को दूर करने पर सहमत हुए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के बीच हुई दो अनौपचारिक शिखर बैठकों में लिए गए फैसलों के संदर्भ में यह कहा गया।

विदेश मंत्रालय ने कहा, ‘दोनों पक्ष इस बात पर सहमत हुए कि दोनों देशों के नेतृत्वों के मार्गदर्शन के तहत दोनों देशों को अपने मतभेदों को शांतिपूर्ण चर्चा के जरिये दूर करना चाहिए।’ उसने कहा कि इन मतभेदों को दूर करने वाली चर्चा के दौरान दोनों पक्ष एक दूसरे की संवेदनशीलता, चिंताओं और आकांक्षाओं का सम्मान करेंगे और इन्हें विवाद नहीं बनने देंगे।

बता दें कि पूर्वी लद्दाख के कम से कम चार क्षेत्रों में पिछले एक महीने से भारत और चीन के सैनिकों के बीच सैन्य गतिरोध चल रहा है।

भारत और चीन ने पूर्वी लद्दाख में अपने सैन्य गतिरोध को लेकर शुक्रवार को राजनयिक वार्ता की। साथ ही, दोनों देश राजनयिक वार्ता के जरिये मतभेदों को दूर करने पर सहमत हुए। दोनों देशों ने एक दूसरे की संवेदनशीलता, चिंता एवं आकांक्षाओं का सम्मान करने तथा इन्हें विवाद नहीं बनने देने पर भी सहमति जताई।

वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव (पूर्वी एशिया), नवीन श्रीवास्तव और चीनी विदेश मंत्रालय में महानिदेशक वू जियांगहाओ के बीच वार्ता हुई। सैन्य गतिरोध का प्रत्यक्ष रूप से जिक्र किए बगैर विदेश मंत्रालय ने कहा कि दोनों पक्षों ने मौजूदा घटनाक्रमों सहित द्विपक्षीय संबंधों की स्थिति की समीक्षा की।

विदेश मंत्रालय ने इस संबंध में जारी एक बयान में कहा, ‘इस संदर्भ में उन्होंने दोनों देशों के नेताओं के बीच बनी उस आम सहमति को याद किया कि भारत और चीन के बीच शांतिपूर्ण, स्थिर और संतुलित संबंध मौजूदा वैश्विक स्थिति में स्थिरता के लिए एक सकारात्मक चीज होगी।’

बयान में कहा गया है कि दोनों पक्ष दोनों देशों के नेतृत्वों द्वारा मुहैया किये गये दिशानिर्देशों के मुताबिक मतभेदों को दूर करने पर सहमत हुए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के बीच हुई दो अनौपचारिक शिखर बैठकों में लिए गए फैसलों के संदर्भ में यह कहा गया।

विदेश मंत्रालय ने कहा, ‘दोनों पक्ष इस बात पर सहमत हुए कि दोनों देशों के नेतृत्वों के मार्गदर्शन के तहत दोनों देशों को अपने मतभेदों को शांतिपूर्ण चर्चा के जरिये दूर करना चाहिए।’ उसने कहा कि इन मतभेदों को दूर करने वाली चर्चा के दौरान दोनों पक्ष एक दूसरे की संवेदनशीलता, चिंताओं और आकांक्षाओं का सम्मान करेंगे और इन्हें विवाद नहीं बनने देंगे।

बता दें कि पूर्वी लद्दाख के कम से कम चार क्षेत्रों में पिछले एक महीने से भारत और चीन के सैनिकों के बीच सैन्य गतिरोध चल रहा है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here