Health Ministry Says That Record Single Day Spike Of Coronavirus Cases In India And Death Toll Rising – देश में एक दिन में मिले कोरोना के रिकॉर्ड 9971 मामले, फिर भी बाकी देशों से बेहतर हालात

0
27


जांच के लिए नमूना लेता स्वास्थ्यकर्मी (फाइल फोटो)
– फोटो : पीटीआई

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free में
कहीं भी, कभी भी।

70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद

ख़बर सुनें

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि पिछले शनिवार सुबह से 24 घंटे बाद तक देश में कोरोना से 287 लोगों की मौत हुई है। बता दें कि शनिवार को भारत कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित देशों की सूची में स्पेन को पीछे छोड़ते हुए पांचवे स्थान पर पहुंच गया। अब पूरी दुनिया में अमेरिका, ब्राजीन, रूस और ब्रिटेन ऐसे देश बचे हैं जहां कोरोना का प्रसार भारत से ज्यादा है। 

मंत्रालय ने कहा कि देश में कोरोना के सक्रिय मामलों की संख्या एक लाख 20 हजार 406 है। अभी तक एक लाख 19 हजार 292 लोग इस बीमारी से ठीक हो चुके हैं। मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के 5,220 मरीज ठीक हुए हैं, ऐसे में भारत में कोरोना से ठीक होने की दर (रिकवरी रेट) 48.37 फीसदी हो गई है। 

इसके साथ ही मंत्रालय ने बताया कि भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने संक्रमित व्यक्तियों में कोरोना वायरस का पता लगाने के लिए अपनी जांच क्षमता को और बढ़ाया है। सरकार लैब (प्रयोगशाला) की संख्या बढ़ाकर 531 की गई है और निजी लैब की संख्या 228 हो गई है। ऐसे में देश में कोरोना जांच करने वाली कुल लैब की संख्या अब 759 हो गई है।

दुनिया के बाकी देशों से बेहतर है स्थिति

मंत्रालय ने कहा कि पिछले 24 घंटे में एक लाख 42 हजार 69 सैंपल की जांच की गई है। देश में अब तक कुल 46 लाख 66 हजार 386 सैंपल की जांच की जा चुकी है। भारत में प्रति एक लाख की आबादी पर मौत का आंकड़ा 0.49 है जो कि दुनिया के औसत 5.17 से काफी कम है और जर्मनी (10.35), इटली (55.78) और ब्रिटेन (59.62) आदि से काफी कम है, जहां लॉकडाउन में ढील दी है। 

भारत में प्रति एक लाख की आबादी पर कोरोना के मामलों की संख्या भी दुनिया और बाकी देशों की तुलना में काफी बेहतर है। देश में प्रति एक लाख आबादी में औसतन 17.32 कोरोना के मामले हैं। वहीं, दुनिया में यह औसर 87.74 है। इसके अलावा लॉकडाउन में राहत देने वाले देशों की तुलना में भी भारत की स्थिति काफी बेहतर है जर्मनी में यह आंकड़ा 219.93 है तो इटली में 387.33 वहीं ब्रिटेन में 419.54 और स्पेन में 515.61 है।

शनिवार सुबह से अब तक हुई 287 मौतों में से 120 मौत महाराष्ट्र में, 53 दिल्ली में, 29 गुजरात में, 19 तमिलनाडु में, 17 पश्चिम बंगाल में, 15 मध्य प्रदेश में, 13 राजस्थान में, 10 तेलंगाना में, तीन जम्मू-कश्मीर में, कर्नाटक, पंजाब और छत्तीसगढ़ में दो-दो और केरल व बिहार में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई है।

देश में इस खतरनाक वायरस से अब तक हुई 6,929 मौतों में से सर्वाधिक 2,969 मौत महाराष्ट्र में हुई हैं। इसके बाद गुजरात में 1,219, दिल्ली में 761, मध्य प्रदेश में 399, पश्चिम बंगाल में 383, उत्तर प्रदेश में 257, तमिलनाडु में 251, राजस्थान में 231, तेलंगाना में 123 और आंध्र प्रदेश में 73 लोगों की मौत हुई है।

कर्नाटक में 59 और पंजाब में 50 मरीजों की संक्रमण के कारण जान गई है। जम्मू-कश्मीर में संक्रमण से 39 लोगों की मौत हुई है जबकि बिहार में 30, हरियाणा में 24, केरल में 15, उत्तराखंड में 11, ओडिशा में आठ और झारखंड में अब तक सात लोगों की मौत हुई है।

हिमाचल प्रदेश और चंडीगढ़ में कोविड-19 से पांच-पांच लोगों की मौत हुई। असम और छत्तीसगढ़ में चार-चार लोगों की मौत हुई। मेघालय और लद्दाख में एक-एक की मौत हुई है। मेघालय और लद्दाख में एक-एक मौत हुई है। मंत्रालय की वेबसाइट के अनुसार 70 फीसदी मौतों के मामले ऐसे हैं जहां मरीज पहले से ही अन्य बीमारियों से पीड़ित थे।

स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा रविवार सुबह तक जारी आंकड़ों के अनुसार, देश में संक्रमण के सबसे ज्यादा 82,968 मामले महाराष्ट्र में हैं। इसके बाद तमिलनाडु में 30,152, दिल्ली में 27,654, गुजरात में 19,592, राजस्थान में 10,331, उत्तर प्रदेश में 9,733 और मध्य प्रदेश में 9,228 लोग हैं।

पश्चिम बंगाल में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 7,738 हो गई है। वहीं कर्नाटक में 5,213, बिहार में 4,915 और आंध्र प्रदेश में 4,510 मरीज हैं। हरियाणा में कोरोना वायरस के 3,952, तेलंगाना में 3,496, जम्मू-कश्मीर में 3,467, और ओडिशा में 2,781 मामले हैं।

पंजाब में 2,515 और असम में 2,397 मामले हैं। केरल में 1,807 और उत्तराखंड में 1,303 लोग संक्रमित हैं। झारखंड में 1,000, छत्तीसगढ़ में 923, त्रिपुरा में 747, हिमाचल प्रदेश में 400, चंडीगढ़ में 309, गोवा में 267, मणिपुर में 157, नगालैंड में 107 और पुडुचेरी और लद्दाख में 99 मामले हैं।

अरुणाचल प्रदेश में कोविड-19 के 47 मामले जबकि अंडमान और निकोबार द्वीप समूह और मेघालय में संक्रमण के 33-33 मामले हैं। मिजोरम में 24, दादर एवं नगर हवेली में 19 और सिक्किम में अब तक कोविड-19 के सात मामले हैं।

मंत्रालय ने कहा, ‘कुल 8,605 मामलों को राज्यों को वापस भेजा गया है। हमारे आंकड़े आईसीएमआर से मिलान करके जारी किए जाते हैं।’ मंत्रालय ने कहा कि राज्यवार आंकड़ों को और अधिक सत्यापित करने और मिलान करने की जरूरत है।

सार

भारत में रविवार को लगातार पांचवें दिन कोरोना वायरस संक्रमण के एक दिन में रिकॉर्ड सबसे ज्यादा मरीज सामने आए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय से मिली जानकारी के अनुसार रविवार को देश में कोरोना संक्रमण के अभी तक कुल 9,971 मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही इस जानलेवा महामारी की वजह से देश मरने वालों की संख्या 6,929 पहुंच गई है।  

विस्तार

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि पिछले शनिवार सुबह से 24 घंटे बाद तक देश में कोरोना से 287 लोगों की मौत हुई है। बता दें कि शनिवार को भारत कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित देशों की सूची में स्पेन को पीछे छोड़ते हुए पांचवे स्थान पर पहुंच गया। अब पूरी दुनिया में अमेरिका, ब्राजीन, रूस और ब्रिटेन ऐसे देश बचे हैं जहां कोरोना का प्रसार भारत से ज्यादा है। 

मंत्रालय ने कहा कि देश में कोरोना के सक्रिय मामलों की संख्या एक लाख 20 हजार 406 है। अभी तक एक लाख 19 हजार 292 लोग इस बीमारी से ठीक हो चुके हैं। मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के 5,220 मरीज ठीक हुए हैं, ऐसे में भारत में कोरोना से ठीक होने की दर (रिकवरी रेट) 48.37 फीसदी हो गई है। 

इसके साथ ही मंत्रालय ने बताया कि भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने संक्रमित व्यक्तियों में कोरोना वायरस का पता लगाने के लिए अपनी जांच क्षमता को और बढ़ाया है। सरकार लैब (प्रयोगशाला) की संख्या बढ़ाकर 531 की गई है और निजी लैब की संख्या 228 हो गई है। ऐसे में देश में कोरोना जांच करने वाली कुल लैब की संख्या अब 759 हो गई है।

दुनिया के बाकी देशों से बेहतर है स्थिति

मंत्रालय ने कहा कि पिछले 24 घंटे में एक लाख 42 हजार 69 सैंपल की जांच की गई है। देश में अब तक कुल 46 लाख 66 हजार 386 सैंपल की जांच की जा चुकी है। भारत में प्रति एक लाख की आबादी पर मौत का आंकड़ा 0.49 है जो कि दुनिया के औसत 5.17 से काफी कम है और जर्मनी (10.35), इटली (55.78) और ब्रिटेन (59.62) आदि से काफी कम है, जहां लॉकडाउन में ढील दी है। 

भारत में प्रति एक लाख की आबादी पर कोरोना के मामलों की संख्या भी दुनिया और बाकी देशों की तुलना में काफी बेहतर है। देश में प्रति एक लाख आबादी में औसतन 17.32 कोरोना के मामले हैं। वहीं, दुनिया में यह औसर 87.74 है। इसके अलावा लॉकडाउन में राहत देने वाले देशों की तुलना में भी भारत की स्थिति काफी बेहतर है जर्मनी में यह आंकड़ा 219.93 है तो इटली में 387.33 वहीं ब्रिटेन में 419.54 और स्पेन में 515.61 है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here