Acharya Balkrishna,ceo Patanjali Claims Coronavirus Medicine Treatment Discovered 80 Percent Recovery Rate – आचार्य बालकृष्ण का दावा, कोरोना के इलाज के लिए आयुर्वेदिक दवा तैयार 

0
23


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Sat, 13 Jun 2020 09:31 PM IST

पतंजलि योगपीठ के सीईओ आचार्य बालकृष्ण
– फोटो : ANI

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free में
कहीं भी, कभी भी।

70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद

ख़बर सुनें

पतंजलि योगपीठ के सीईओ आचार्य बालकृष्ण ने शनिवार को दावा किया कि कोरोना वायरस को फैलने से रोकने और संक्रमितों को ठीक करने की आयुर्वेदिक दवा तैयार हो चुकी है। उन्होंने कहा कि दवा का पहले चरण में क्लिनिकल ट्रायल पूरा हो चुका है। इसका सौ फीसदी नतजा आया है। सैकड़ों मरीज इस दवा से ठीक हुए हैं। उन्होंने कहा कि अगले तीन-चार दिनों में ठीक हुए मरीजों के डेटा के साथ सारे सबूत दुनिया के सामने रखेंगे। 

आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि जब कोरोना वायरस फैलना शुरू हुआ था तो हमने वैज्ञानिकों की टीम शोध के लिए लगा दी थी। इन वैज्ञानिकों ने कोरोना से लड़ने, उसे फैलने और ठीक करने के लिए जड़ी-बूटियों की पहचान की। इन्हें पूरी प्रक्रिया के लिए तैयार करने के बाद ही ट्रायल किया गया। हमने सैकड़ों कोरोना पॉजिटिव मरीजों को ये दवा दी और इसका 100 फीसदी नतीजा आया।

 

बालकृष्ण ने कहा कि जिन कोरोना संक्रमितों को ये दवा दी गई उनमें 70 से 80 फीसदी मरीज महज पांच से छह दिन में ठीक हुए हैं। सभी मरीज दवा लेने के अधिकतम 14 दिन के भीतर ही स्वस्थ हो गए। ऐसे सभी मरीज बाद में कोरोना निगेटिव पाए गए। उन्होंने कहा कि गंभीर मरीजों को भी यह दवा दी गई और वह भी स्वस्थ हो गए। मरीजों की कफ, बुखार और सांस लेने में दिक्कत जैसी गंभीर समस्या भी दूर हो गई। 

उन्होंने कहा कि कोरोना का इलाज आयुर्वेद से 100 फीसदी संभव है। हमें क्लिनिकल ट्रायल में सफलता मिली है। अब क्लिनिकल कंट्रोल ट्रायल कर रहे हैं। अभी तक इसमें भी सकारात्मक नतीजे मिले हैं। आने वाले तीन-चार दिनों में हम इसका पूरा विवरण दुनिया के सामने सबूतों के साथ रखेंगे। 

पतंजलि योगपीठ के सीईओ आचार्य बालकृष्ण ने शनिवार को दावा किया कि कोरोना वायरस को फैलने से रोकने और संक्रमितों को ठीक करने की आयुर्वेदिक दवा तैयार हो चुकी है। उन्होंने कहा कि दवा का पहले चरण में क्लिनिकल ट्रायल पूरा हो चुका है। इसका सौ फीसदी नतजा आया है। सैकड़ों मरीज इस दवा से ठीक हुए हैं। उन्होंने कहा कि अगले तीन-चार दिनों में ठीक हुए मरीजों के डेटा के साथ सारे सबूत दुनिया के सामने रखेंगे। 

आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि जब कोरोना वायरस फैलना शुरू हुआ था तो हमने वैज्ञानिकों की टीम शोध के लिए लगा दी थी। इन वैज्ञानिकों ने कोरोना से लड़ने, उसे फैलने और ठीक करने के लिए जड़ी-बूटियों की पहचान की। इन्हें पूरी प्रक्रिया के लिए तैयार करने के बाद ही ट्रायल किया गया। हमने सैकड़ों कोरोना पॉजिटिव मरीजों को ये दवा दी और इसका 100 फीसदी नतीजा आया।

 

बालकृष्ण ने कहा कि जिन कोरोना संक्रमितों को ये दवा दी गई उनमें 70 से 80 फीसदी मरीज महज पांच से छह दिन में ठीक हुए हैं। सभी मरीज दवा लेने के अधिकतम 14 दिन के भीतर ही स्वस्थ हो गए। ऐसे सभी मरीज बाद में कोरोना निगेटिव पाए गए। उन्होंने कहा कि गंभीर मरीजों को भी यह दवा दी गई और वह भी स्वस्थ हो गए। मरीजों की कफ, बुखार और सांस लेने में दिक्कत जैसी गंभीर समस्या भी दूर हो गई। 

उन्होंने कहा कि कोरोना का इलाज आयुर्वेद से 100 फीसदी संभव है। हमें क्लिनिकल ट्रायल में सफलता मिली है। अब क्लिनिकल कंट्रोल ट्रायल कर रहे हैं। अभी तक इसमें भी सकारात्मक नतीजे मिले हैं। आने वाले तीन-चार दिनों में हम इसका पूरा विवरण दुनिया के सामने सबूतों के साथ रखेंगे। 





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here