90 Thousand Hectares Of Greenery Destroyed In Locust Attack, Un Warns Of Second Wave, High Alert In Many States – टिड्डी हमले में बर्बाद हुई 90 हजार हेक्टेयर हरियाली, यूएन ने दी दूसरी लहर की चेतावनी, कई राज्यों में हाईअलर्ट

0
23


डिजिटल ब्यूरो, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Fri, 29 May 2020 05:20 AM IST

ख़बर सुनें

देश में 26 साल बाद टिड्डी दलों के सबसे भयानक हमले से करीब 90 हजार हेक्टेयर फसलें हरियाली उजड़ गई हैं। यह आकलन अभी राजस्थान के 20 जिलों के आधार पर ही जारी किया गया है। ऐसे में टिड्डी दलों की चपेट में आने वाली फसलों और हरियाली का आंकड़ा और बढ़ना तय है। राजस्थान के अलावा मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र में टिड्डी दलों के हमले हो रहे हैं।

दिल्ली, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, तेलंगाना, ओडिशा और कर्नाटक ने बृहस्पतिवार को अपने यहां अलर्ट जारी कर दिए। लेकिन सबसे खतरनाक चेतावनी संयुक्त राष्ट्र (यूएन) के खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) ने दी है। एफएओ ने टिड्डी दलों के बिहार, ओडिशा तक पहुंचने की चेतावनी देने के साथ ही मानसूनी हवाओं के साथ जुलाई में दोबारा उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान लौटने की चेतावनी दी है।

राजस्थान में अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को बताया कि पाकिस्तान से राज्य में प्रवेश करने के बाद टिड्डी दलों ने राजधानी जयपुर समेत करीब 20 राज्यों में अपना आतंक फैलाया। अब तक के आकलन में इन जिलों में 90 हजार हेक्टेयर फसलों और हरियाली को नुकसान पहुंचाने की बात सामने आई है। कृषि आयुक्त ओम प्रकाश के मुताबिक, श्रीगंगानगर, नागौर, जयपुर, दौसा, करौली और सवाई माधोपुर होते हुए टिड्डी दलों ने उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश का रुख कर लिया है। विभाग ने करीब 67 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में टिड्डी दलों को नियंत्रित करने के लिए अभियान चलाए हैं। उन्होंने इस बार टिड्डी दलों के भयानक हमले के लिए पाकिस्तान में खड़ी फसलों की कमी को बड़ा कारण बताया।

दिल्ली सरकार ने राष्ट्रीय राजधानी में टिड्डी दलों के संभावित हमले को देखते हुए एक एडवाइजरी जारी की है। यह एडवाइजरी बृहस्पतिवार को श्रम मंत्री गोपाल राय के आवास पर संबंधित अधिकारियों की बैठक के बाद जारी की गई। अधिकारियों को रात के समय कीटनाशकों के घोल का छिड़काव कराने के आदेश दिए गए हैं। साथ ही किसानों और अन्य लोगों के लिए जागरूकता अभियान चलाने को भी कहा गया है। हरियाणा के अपर मुख्य सचिव (कृषि और किसान कल्याण) संजीव कौशल के मुताबिक, टिड्डी हमले की संभावना पर सिरसा, फरीदाबाद, हिसार, भिवानी, चरखी दादरी, महेंद्रगढ़ और रेवाड़ी को हाई अलर्ट पर रखा गया है। कर्नाटक ने अपने यहां टिड्डी दल पहुंचने की संभावना के परीक्षण को एक कमेटी गठित कर दी है। ओडिशा ने भी अपने यहां एडवाइजरी जारी की है।

देश में 26 साल बाद टिड्डी दलों के सबसे भयानक हमले से करीब 90 हजार हेक्टेयर फसलें हरियाली उजड़ गई हैं। यह आकलन अभी राजस्थान के 20 जिलों के आधार पर ही जारी किया गया है। ऐसे में टिड्डी दलों की चपेट में आने वाली फसलों और हरियाली का आंकड़ा और बढ़ना तय है। राजस्थान के अलावा मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र में टिड्डी दलों के हमले हो रहे हैं।

दिल्ली, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, तेलंगाना, ओडिशा और कर्नाटक ने बृहस्पतिवार को अपने यहां अलर्ट जारी कर दिए। लेकिन सबसे खतरनाक चेतावनी संयुक्त राष्ट्र (यूएन) के खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) ने दी है। एफएओ ने टिड्डी दलों के बिहार, ओडिशा तक पहुंचने की चेतावनी देने के साथ ही मानसूनी हवाओं के साथ जुलाई में दोबारा उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान लौटने की चेतावनी दी है।

राजस्थान में अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को बताया कि पाकिस्तान से राज्य में प्रवेश करने के बाद टिड्डी दलों ने राजधानी जयपुर समेत करीब 20 राज्यों में अपना आतंक फैलाया। अब तक के आकलन में इन जिलों में 90 हजार हेक्टेयर फसलों और हरियाली को नुकसान पहुंचाने की बात सामने आई है। कृषि आयुक्त ओम प्रकाश के मुताबिक, श्रीगंगानगर, नागौर, जयपुर, दौसा, करौली और सवाई माधोपुर होते हुए टिड्डी दलों ने उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश का रुख कर लिया है। विभाग ने करीब 67 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में टिड्डी दलों को नियंत्रित करने के लिए अभियान चलाए हैं। उन्होंने इस बार टिड्डी दलों के भयानक हमले के लिए पाकिस्तान में खड़ी फसलों की कमी को बड़ा कारण बताया।

दिल्ली सरकार ने राष्ट्रीय राजधानी में टिड्डी दलों के संभावित हमले को देखते हुए एक एडवाइजरी जारी की है। यह एडवाइजरी बृहस्पतिवार को श्रम मंत्री गोपाल राय के आवास पर संबंधित अधिकारियों की बैठक के बाद जारी की गई। अधिकारियों को रात के समय कीटनाशकों के घोल का छिड़काव कराने के आदेश दिए गए हैं। साथ ही किसानों और अन्य लोगों के लिए जागरूकता अभियान चलाने को भी कहा गया है। हरियाणा के अपर मुख्य सचिव (कृषि और किसान कल्याण) संजीव कौशल के मुताबिक, टिड्डी हमले की संभावना पर सिरसा, फरीदाबाद, हिसार, भिवानी, चरखी दादरी, महेंद्रगढ़ और रेवाड़ी को हाई अलर्ट पर रखा गया है। कर्नाटक ने अपने यहां टिड्डी दल पहुंचने की संभावना के परीक्षण को एक कमेटी गठित कर दी है। ओडिशा ने भी अपने यहां एडवाइजरी जारी की है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here